Fefanil Tablets review in Hindi फेपनिल टैबलेट की पूरी जानकारी

author Medicine Reviews   3 мес. назад
605 views

8 Like   3 Dislike

Azithromycin 500 mg benefit and side effect aur uses

1 से 2 साल तक के बच्चों के लिए श्रेष्ठ आहार | Meal plan for your two-year-old Baby #baby...

1 से 2 साल तक के बच्चों के लिए श्रेष्ठ आहार | Meal plan for your two-year-old Baby #baby health 1 से 2 साल तक के बच्चों के लिए श्रेष्ठ आहार छोटे बच्चों को क्या खिलाये क्या नही खिलाये.. एक मां के लिये बड़ी समस्या है.. विशेषकर जब बच्चा 1 या 2 साल का हो..क्योंकि बच्चे के भोजन पर निर्भर होता है बच्चे का विकास इसीलिये इस उम्र मे बच्चे को आहार देते समय बहुत ही बातों का ध्यान रखना चाहिये.. 1 से 2 साल के बच्चे अपने खाने की आदत को शिशुपन से छोड़कर अपने मा-बाप की तरह बनाना शुरु करते है वे अपने हाथों से खाने की आदत को सीखते है। इसीलिये इस उम्र मे आहार देते समय ज्यादा ध्यान देने की जरुरत होती है। Please don't forget to give this video a thumbs up, subscribe and comment below. Watch "1 से 2 साल तक के बच्चों के लिए श्रेष्ठ आहार | Meal plan for your two-year-old Baby #baby health" on our channel Baby Health Guide More baby health videos you can see on our channel - https://www.youtube.com/channel/UCrXQ... Thanks for watching!! Social Media Links: ♥ Facebook: https://goo.gl/LJ9mcE ♥ Twitter: https://twitter.com/babyhealthguid1 ♥ Blog: http://healthyfitbaby.blogspot.in/ ♥ Google+ - https://goo.gl/FckxHG

Stomach Worms Natural Treatment //पेट के कीड़े पूरी जानकारी, दवा, इलाज़ //Pet Ke Kido Ka Ilaj

Stomach Worms Natural Treatment पेट के कीड़े पूरी जानकारी, दवा, इलाज़ Pet Ke Kido Ka Ilaj पेट के कीड़े- पूरी जानकारी, दवा, इलाज़ इस लेख में हम पेट के कीड़े होने का कारण/ लक्षण, पेट के कीड़े मारने की दवा (रोकने या छुटकारा पाने का समाधान/ उपचार), घरेलु उपाय, दवा तथा घरेलू नुस्खे बताएंगे। पेट के कीड़े: कीड़े शरीर में छिपा हुआ ऐसा रोग है जो कि ऊतकों में, अंग में और खून में पैदा होसकता है। पहले आपको बतादेकिपेट में कीड़ा कैसे विकसितहोता है। परजीवी या कीड़े कीश्रेणी में गोल, फीता कृमि इत्यादि शामिल है।ये परजीवी किसी भी आकार का होसकता है और कई प्रकारकीसमस्या उत्पन्न कर सकते हैं। कुछ कीड़े लाल रक्त कोशिकाओं कोअपना आहार बनाकर एनीमिया का शिकार बना देता है। शेष कीड़े आपके भोजन का उपभोग करते है। ये आपको भूखा रखते हुए, वजन बढ़ने से रोकता है। पेट के कीड़े से खुजली, चिड़चिड़ापन, और यहां तक कि अनिद्रा की समस्या का भी सामना करना पड़ता है। पेट में कीड़े होने के लक्षण: - कब्ज़ की शिकायत - खाने का न पच पाना - दस्त का होना - खाना खाने के तुरन्त बाद मल का आ जाना - मल में बलगम तथा खून आना - पेट में दर्द तथा जलन - गैस और सूजन का अनुभव - बवासीर का हो जाना - थकान होना - अत्यधिक कमजोरी - त्वचा रोग और एलर्जी कीड़े जो कि त्वचा में प्रवेश करते है, खुजली को जन्म देता है। जब ऊतकों को इन परजीवियों से सूजन होता है, तब श्वेत रक्तकोशिका शरीर कीसुरक्षा करना प्रारंभ करती है। यह प्रतिक्रिया त्वचा परचकत्ते का कारण बनती है। - भंगुर बाल तथा शुष्क त्वचा - त्वचा के नीचे सनसनी रेंगना - दानेदार घाव - धीरे सजगता - निद्रा संबंधी परेशानियां - नींद के दौरान दांत पीसना - वजन और भूख समस्या - मांसपेशियों और जोड़ों की शिकायत - रक्त विकार - यौन और प्रजनन समस्या - सांस लेते समय मुसीबत इन कीड़ों से बचने के लिए कुछ मेडिकल परीक्षण तथा इलाज आवश्यक है। इन परीक्षणों के बीच परम्परागत अंडाणु और परजीवी स्टूल टेस्टबहुत महत्वपूर्ण है। अंडाणु और परजीवी स्टूल टेस्ट: परम्परागत मल परीक्षण आपके मल में परजीवी या परजीवी अंडे पहचान सकता है। इस परीक्षण की अभी भी कुछ सीमाएं है। इस परीक्षण में तीन अलग-अलग मल के नमूने की जाँच अति आवश्यक है। सभी नमूनों को सूक्ष्मदर्शी से जाँच के लिए चिकित्सक के पास भेजा जाना चाहिए। परजीवियों का एक बहुत ही अनोखा जीवन चक्र होता है जो उन्हें निष्क्रिय चीजों में भी जिंदारखता है। इस पारंपरिक परीक्षण में उन्हें पहचानने के लिए, परजीवीजीवित होना चाहिए। ताकि चिकित्सक कीड़े से बचने के लिए उचित दवा दे सके। रोकथाम व घरेलू उपचार: - कद्दू के बीज, अंजीर और तिल के बीज का दैनिक तीन बार खाली पेट उपभोग करें। - केवल बोतल बंद मिनरल पानी पिएं। - चीनी, वसा, मांस, चिकन, भेड़ और सुअर का मांस उत्पादों उपयोग न करना। - परजीवी विनाशकारी शक्तियों के लिए अनानास खाएं। - भोजन के 30 मिनट पहले याबाद कुछ मात्रा में पपीता खाएं। - इस समय अंतरंग संबंध बनाने से बचें। - अंडरवियर, बिस्तर और तौलिये को प्रत्येक उपयोग के बादगर्म पानी में धो लें। - बार बार हाथ धोएं। - इस समस्या के दौरान कॉफी, शराब से बचें। - परजीवी विरोधी खाद्य पदार्थ जैसे कि सरसों के बीज खाएं। - सुबह खाली पेट छाछ लें। - दही के साथ पुराने नारियल लें। नारियल का पाउडर बनाने के बाद उसे एक डिब्बे में रख दें। प्रत्येक दिन एक चम्मच नारियल पाउडर को एक कप दही में मिलाएं और दिन में तीन चार बार खाना खाने से पहले ले। यह तीन से चार दिन में हर प्रकार के कीड़े को निकाल देता है। खाली पेट खजूर खाना पेट के कीड़ों से बचने का सबसे बेहतरीन उपाय है। - अदरक पेट के कीड़े को मारने का प्राकृतिक स्त्रोत है।अदरक की चार-पांच पोथी छील लें। उन्हें छोटे टुकड़ों में काट कर शहद केसाथ मिला ले तथा कुछ मात्रा में काला नमक डालें। इससे बने घोल को दिन में कम से कम तीन बार मरीज को दे। - गाजर का जूस पिए। - ताजा आडू के टुकड़ों को नमक के साथ खाएं। ऊपर दी गई हुई सभी प्रक्रियाओं का सावधानियां से प्रयोग कर आप पेट के कीड़ों से बहुत जल्द मुक्ति पा सकते हैं। सलाह व परहेज: - सब्जियों में चुकंदर, लहसुन, भिंडी, मटर, मूली, मीठे आलू, टमाटर, शलजम इत्यादि का प्रयोग करें। - फलों में केले, जामुन, चेरी, अंगूर, कीवी फल, नींबू, तरबूज, संतरा, पपीता, अनानास, आलू बुखारा, अनार की छाल और पत्तियों कासेवन करें। - औषधीय जड़ी बूटी में एंजेलिका, राख लौकी बीज, सुपारी, काले अखरोट हल्स, झूठी गेंडा, गोल्डन सील जड़ तथा अजवाइन का उपयोग करें। आप इन प्रक्रियाओं को अपना कर पेट के कीड़ों से छुटकारा पा सकते हैं तथा स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकते हैं। Produced by Ayurveda India Video URLhttps://youtu.be/HeEjJzlwong

Supradyn Multivitamin Tablet - Uses, Side-effects, Precautions & Doctors Review | Dr. Mayur Sankhe

Subscribe Channel For More Videos https://goo.gl/WkUMHc Supradyn Tablet is used for Healthy nails, Skin and hair, Vitamin b12 deficiency, Skin diseases, Acid indigestion, Eye problems, Chest pain and other conditions. Supradyn Tablet may also be used for purposes not listed in this medication guide. Supradyn Tablet contains Calcium Pantothenate, Calcium Phosphorus, Copper Sulphate, Dried Ferrous Sulphate, Magnesium Oxide, Manganese Sulphate, Nicotinamide, Sodium Borate, Sodium Molybdate, Vitamin A, Vitamin B1, Vitamin B12, Vitamin B2, Vitamin B6, Vitamin C, Vitamin D, Vitamin E, Vitamin H, and Zinc Sulphate as active ingredients. Supradyn Tablet works by treating vitamin B12 deficiency; inhibiting the herpes simplex virus growth; metabolizing carbohydrate thus maintains normal growth; maintaining many tissues of the body to prevent vitamin B2 deficiency; producing antibodies and hemoglobin by keeping blood sugar level in normal range; protecting cells against peroxidative damage by increasing the level of glutathione; acting in the tricarboxylic acid cycle at the alpha-ketoglutarate level; helping tissue in respiration and metabolism of fats, protein thus lowers blood cholesterol by inhibiting the synthesis of LDL; facilitating retina formation required for low light and color vision; blocking the damage caused by free radicals thus heals wounds; slowing down the processes that damage cells; activating enzymes and carbohydrate metabolism; increasing absorption of calcium and phosphorus required for strong bones; completing the need of magnesium in the body; breaking down proteins and other substances; building muscles and improving the muscle coordination; breaking down food into sugar; supplying iron to the body; maintaining the normal functioning of the body as well as beneficial for bone formation; Supradyn Tablet Uses : Supradyn Tablet is used for the treatment, control, prevention, & improvement of the following diseases, conditions and symptoms: Healthy nails, skin and hair Vitamin b12 deficiency Skin diseases Acid indigestion Eye problems Chest pain Gray hair Anemia Pernicious anemia For eye and ear wash Skin infection Thiamine deficiency Neurological disorders Heart problem Eye disorders Migraine headache Hyperhomocysteinemia Neurological disturbances Mental problems Convulsions Pregnancy complications Homocystinuria Streptomycin neurotoxicity Salicylate toxicity Alopecia Catarrhal respiratory disorders Osteoarthritis Antidotes for phosphorus poisoning Treatment of emetics Serving as a fungicide Treatment of phosphorus burns of the skin High cholesterol Diarrhea Alzheimer's disease Attention deficit hyperactivity disorder Arthritis Vitamin b3 deficiency Vitamin a deficiency Scurvy Cell damage Wound healing Tissue repair Red blood cell production Heart attack Leg pain due to blocked arteries High blood pressure Manganese plasma levels Depletion of endogenous stores Deficiency syndromes Vitamin d deficiency Heartburn Sour stomach Low magnesium levels Copper deficiencies in animals Sodium deficiency in humans Osteoporosis Rheumatoid arthritis Glucose metabolism Metabolizing proteins Low blood levels of iron Pregnancy Strengthen bones and teeth Supradyn Tablet may also be used for purposes not listed here

CYCLOPAM TABLET के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में

cyclopam tab is manufactured by indoco remedies pvt ltd,here we know the uses , effects and side effects of this cyclopam tab.

Fefanil Tablets review in Hindi फेपनिल टैबलेट की पूरी जानकारी
Fepanil Tablet is used for Fever, Headache, Joint pain, Arthralgia, Periods pain, Febrility and other conditions. Fepanil Tablet may also be used for purposes not listed in this medication guide.
Fepanil Tablet contains Paracetamol as an active ingredient.
Fepanil Tablet works by increasing the pain threshold and increases the blood flow across the skin, heat loss and sweating.
veritaz manufactures Fepanil Tablet.

Comments for video: